किशोर पारीक "किशोर"

किशोर पारीक "किशोर"

किशोर पारीक "किशोर" की कविताओं के ब्लोग में आपका स्वागत है।

किशोर पारीक 'किशोर' गुलाबी नगर, जयपुर के जाने माने कलमकार हैं ! किशोर पारीक 'किशोर' की काव्य चौपाल में आपका स्वागत है।



बुधवार, अप्रैल 14, 2010

साइबर काऊ


ई- डेयरी खोल  कर
एक छोरा ले आया
साइबर काऊ
दूध लेने आया
गांव का ताऊ
छोरे ने हँसते हुए बोला
 ताऊ पेन ड्राइव लाओ
जितने जीबी दूध
चाहो ले जाओ
ताऊ भी था थोडा
कम्पुटर पढ़ा
उसने उसी अंदाज़ में
उत्तर जड़ा
फालतू मात बोल
कम्प्यूटर के वायरस
देने से पहले गायरस
ईं की जीभ दिखा
म्हें पहचाणु थारी
सगली पीढ़ी
कठे तने लगा रखी हो
पानी वाली सीडी
भाया तू यदी
कम्प्यूटर में डेस्कटौप है
तो यो ताऊ भी पूरो लेपटोप  है!
किशोर पारीक " किशोर"   

2 टिप्‍पणियां:

  1. वा किशोर जी ये भी खूब रही, जितने जीबी दूध चहिये ले जाओ :)

    उत्तर देंहटाएं