किशोर पारीक "किशोर"

किशोर पारीक "किशोर"

किशोर पारीक "किशोर" की कविताओं के ब्लोग में आपका स्वागत है।

किशोर पारीक 'किशोर' गुलाबी नगर, जयपुर के जाने माने कलमकार हैं ! किशोर पारीक 'किशोर' की काव्य चौपाल में आपका स्वागत है।



शनिवार, मई 15, 2010

पाणी हवा विचार प्रदूषण कोडे कोनै

राजस्‍थानी गज़ल
पाणी हवा विचार, प्रदूषण कोडे कोनै
जात, धरम दीवार, प्रदूषण  कोडे कोनैं
दफतर का बाबू अर, अफसर रिश्‍वत लेवै
खावे बिना डकार, प्रदूषण कोडे कोनैं
राजनीति का दंगल में, छै घाला मेली
सगला रंग्‍या सियार, प्रदूषण कोडे कोनैं
गीतां का भावां में, अब रंगत कोनै
बरसे नहीं रसधार, प्रदूषण कोडे कोनैं
खोटा सिक्‍का चले, धडल्‍ला सूं बाजार मँ
लोकतंत्र  लाचार, प्रदूषण कोडे कोनैं
रूपया को नैतिकता को, अवमूल्‍यन जारी
बिना साख बाजार, प्रदूषण कोडे कोनै
आंधी झखझोरै, चम्‍पा रजनीगन्‍धा नै
सिसक्‍या हार सिंगार, प्रदूषण कोडे कोनैं
मायड भाषा और देश की हिन्‍दी भाषा
हिगंलिश बणगी यार, प्रदूषण कोडे कोनैं
चक्रवात मौसम का तो, म्‍हे सह भी लेता
दिल  का गर्दगुबार, प्रदूषण कोडे कोनैं

किशोर पारीक 'किशोर'

2 टिप्‍पणियां:

  1. मायड भाषा और देश की हिन्‍दी भाषा
    हिगंलिश बणगी यार, प्रदूषण कोडे कोनैं

    sateek tippanee !
    ati sundar !

    उत्तर देंहटाएं